August 14, 2018

…तो स्वामी विशुद्धानंद सूक्ष्म शरीर से कर रहे ईश्वर आराधना

निखिल दुनिया ब्यूरो। चैरासी लाख योनियों में भटकने के बाद मिले इस मानव जीवन को हम दुनियादारी के काम-काज में यूं ही गंवा देते हैं। हजारों-लाखों में से कोई एक बिरला होता है, जो मानव…