Articles by Nikhil Duniya

गाय से जुड़े बहुत कारगर उपाय

हिंदू धर्म में गाय को माता कहा गया है। ग्रंथों में गाय की उपयोगिता और उसके पूजनीय होने के बारे में कई जगह लिखा गया है। आइए जानते हैं गाय से जुड़े 5 उपाय जो…


No Picture

सुंदरकांड पढ़ने से होते हैं ये 5 फायदे

श्रीरामचरित मानस के सुंदरकांड अध्याय में बजरंग बली की महिमा का विस्तृत वर्णन मिलता है। मान्यता है कि इसे पढ़ने से व्यक्ति में आत्मविश्वास का संचार होता है। कहा तो यह भी जाता है कि…


No Picture

अमेरिका के आसमान में दिखा अद्भुत नजारा, कैमरे में कैद हुई रहस्यमय रोशनी

वॉशिंगटन अमेरिका के आसमान में एक रहस्यमय रोशनी देखी गई है। ऐरिज़ोना प्रांत के फीनिक्स शहर में मंगलवार रात करीब 8:30 बजे लोगों ने आसमान में एक अद्भुत नजारा देखा। इसके बाद से कई तरह…


No Picture

क्या जेनेटिक तरीके से पैदा की गई फसलें फायदेमंद हैं?

बायोटेक्नालॉजी की कंपनी ‘बायोकॉन लिमिटेड’ और आई आई एम बेंगलुरु की चेयरपर्सन डॉ किरन मजूमदार शॉ ने सद्‌गुरु से बातचीत की। पेश है उस संवाद की एक कड़ी: किरण मजूमदार शॉ: सद्‌गुरु, ‘जेनेटिकली मॉडिफायड’ फसलों…


No Picture

निराकार परमात्मा

अन्तवत्तु फलं तेषां तद्भवत्यल्पमेधसाम् | देवान्देवयजो यान्ति मद्भक्ता यान्ति मामपि || गीता 7/23|| अर्थ : निःसंदेह उन अल्प बुद्धि वालों का वह फल नाशवान है। देवताओं को पूजने वाले देवताओं को प्राप्त होते हैं और मेरे…


No Picture

संतान को संस्कारी बनाने के लिए जरूरी हैं ये बात भी

घर-परिवार में सबसे मुश्किल होता है, संतान को संस्कारी बनाना। ये बात पूरी तरह गलत है कि बच्चों को संस्कारी और योग्य बनाने के लिए ज्यादा से ज्यादा सुख-सुविधाओं की आवश्यकता होती है। “अभाव” में भी संतानों…


No Picture

बद्रीनाथ धाम में पद्मासन मुद्रा में हैं भगवान विष्णु

हिमालय की पर्वत श्रृंखलाओं में अपनी दिव्य छटा बिखेरता नीलकंठ पर्वत वो स्थान है जहां भगवान विष्णु बद्रीनाथ रूप में विराजमान हैं. बद्रीनाथ धाम भगवान विष्णु के तीर्थस्थलों में एक अलग स्थान तो रखता ही…


विदेश में नौकरी छोड़ गौतम ने शुरू की मशरूम की खेती

नई टिहरी। शानदार करियर और बड़ी तनख्वाह के लिए हमारे देश के युवा विदेश जाने का सपना देखते हैं। मगर इसके उलट चंबा के एक युवा ने कुछ अलग ही नजीर पेश की है। आस्ट्रेलिया…


No Picture

सांस्कृतिक दीपक को बुझने न दें

परमहंस स्वामी निखिलेश्वरानंद महाराज आधुनिक प्रगति का चक्र बहुत तेजी से घूम रहा है। आज के समय में मानव हर जगह अपने आप को स्तब्ध पा रहा है। उसे अपनी स्थिति समझ में नहीं आ…