भोजन के बाद पानी पीना जहर के समान है

हमारी छोटी-छोटी आदतें हमारे स्वास्थ्य पर बड़ा असर डालती हैं। ऐसी ही एक आदत है खाना खाने से पहले या खाना खाने के बाद पानी पीना। विशेषज्ञों का मानना है कि खाना खाने से आधा घंटा पहले और भोजन करने के 1-2 घंटे बाद पानी पीना चाहिए। तो आइए जानते हैं भोजन करते समय क्या सावधानियां बरतनी चाहिए-

भोजन के अंत में पानी पीना जहर पीने के समान है। क्योंकि पेट के अंदर जठर यानी आमाशय होता है। जठर के अंदर अग्नि प्रदीप्त होती है। भोजन पहले जठर में जाता है। वहां अग्नि भोजन का पाचन करती है। भोजन करने के बाद अग्नि प्रदीप्त हो जाती है। यह भोजन अग्नि के प्रभाव में पचेगा। पहले भोजन पेस्ट बनेगा। फिर उसमें से रस आदि बनेगा। अग्नि भोजन को पचाती है। भोजन करते ही पानी पीने से अग्नि शांत हो जाएगी। फिर भोजन पचेगा नहीं सड़ेगा। भोजन यदि सड़ना शुरू हुआ तो सबसे पहले वायु बनेगी।

वायु बढ़ने से पेट, छाती में जलन होगी। ज्यादा वायु होने पर शरीर में घूमेगी। एसिडिटी से शुरू होकर अल्सर, बवासीर, भगदंर और अंत में कैंसर रोग तक हो सकता है। भोजन सड़ेगा तो तभी कोलेस्ट्राल भी बनेगा। यदि भोजन का पाचन सही हुआ तो कोलेस्ट्राल शून्य रहेगा। शरीर में दो तरह का कोलेस्ट्राल होता है। एक अच्छा और बुरा। खराब कोलेस्ट्राल रक्त में तभी आता है जब भोजन पेट में सड़ता है। इसका मतलब जिनका कोलेस्ट्राल बढ़ा हुआ है, उनका भोजन पच नहीं रहा हे। सड़ रहा है तो हार्ट अटैक, संधि कड़क हो जाएंगी।

आगे चलकर यही एसिडिटी और गैस भयानक रूप भी धारण कर लेती है। कई बार यह आपके लिए जानलेवा भी हो सकता है। आयुर्वेद में एक सौ तीन तरह की बीमारियों का जिक्र है जो खाने के तुरंत बाद पानी पीने से होती हैं। इसलिए सलाह दी जाती है कि खाने से कम से कम एक घंटा पहले ही पानी पी लें, खाने के एक या दो घंटे तक पानी न पिएं। अगर आप अपनी सेहत से जुडी हर छोटी से छोटी बात का ध्यान रखेंगे तभी जाकर आप पूरी तरह स्वस्थ रह पाएंगे।